July 30, 2017

What is COCOMO in Hindi, Software Engineering me [COCOMO Model Kya hai.?]

Software Engineering me COCOMO Model Kya Hai:


Barry Boehm ने वर्ष 1981 में COCOMO (Constructive Cost Estimation Model) Model को Introduce किया था। Bohem के अनुसार कि किसी भी Software Development Project को उसके Development के Complexity के आधार पर Organic, Semidetached और Embedded में से किसी एक में classified किया जा सकता है।

COCOMO Model in Hindi:

COCOMO Model का उपयोग किसी भी Software के Development में Cost Estimation के लिए किया जाता है जो Software के Cost को Evalute करता है। Boehm के अनुसार किसी भी Project के Development के लिए लगने वाला Cost उस Software के(बनने वाला) Characteristics के साथ साथ उसमे लगने वाले Development Team और Development environment के ऊपर भी निर्भर करता है, और ये सभी Factors किसी न किसी रूप में उसके Cost को effect करते है।

cocomo-model-hindi

COCOMO Model में किसी Project को Devlope करने के लिए उसमे लगने वाले समय(month) और Person की संख्या की जरूरत को estimate करने के लिए effort equation का प्रयोग किया जाता है। Effort estimation के unit के लिए PM(person-months) का use होता है। यहाँ पर PM किसी Project को बनाने में किसी एक Person द्वारा एक महीने (months) में उसके Workdone से है।



Boehm के अनुसार, किसी भी Software को Cost Estimation के आधार पर निम्न तीन Stages में बांटा जाता हैं, या बांटा जाना चाहिए।
  1. Basic COCOMO Model,
  2. Intermediate COCOMO Model, and
  3. Complete COCOMO Model
हम जल्द ही COCOMO Model के तीनो Stages को details में Discuss करेंगे..। 

January 2, 2017

Software Engineering Kya hai [What is Software Engineering in Hindi]

Software Engineering एक Systematic रूप है जिसके द्वारा किसी Electronic (Devices) Technology के लिए विशेष प्रकार के Application के  Design, Development, Implementation, Testing और Maintenance से हैं ।

"Software engineering" शब्द सर्वप्रथम 1968  में NATO के Software Engineering सम्मेलन में प्रयोग में लाया गया था जोकि उस समय के "Software crisis" को सुलझाने के लिए आयोजित किया गया था और तबसे अबतक ये Software engineering एक ऐसे व्यवसाय के रूप में विकसित हो चुका है जो High Quality के Software विकसित करने के लिए समर्पित है जो सस्ते, सरलता से रखरखाव करने के योग्य और तेज़ी से बनाये जा सकने में आसन हो।

Software Engineering क्या है.?


अन्य Engineering शाखाओं की तुलना में "Software Engineering" एक नया क्षेत्र है, इसलिए इस क्षेत्र में बहुत काम किया जाना अभी बाकी है और तो Software Engineering को लेकर बहुत वाद-विवाद है की वास्तव में ये क्या है और इस बात की भी की क्या ये Engineering के क्षेत्र में रखे जाने योग्य है भी या नहीं।

software-engineering-hindi-me


Software Engineering के क्षेत्र में तीव्रता से वृद्धि हुई, इसे अब केवल Programming तक ही सीमित नहीं रखा जा सकता हैं। Software Engineer Programming तथा Designing करके इन Software's तथा Application's का निर्माण करते है।

                                             "Software engineering" के स्थान पर Software Industries में "Software Development" शब्द का भी प्रयोग किया जाता है जो engineering शब्द को Software Development के लिए संकुचित मानते हैं।

In Short हम कह सकते है कि :
" Software Engineering का अर्थ एक ऐसी Engineering से है जिसमें Computer System तथा किसी अन्य Electronic Devices के लिए Software के निर्माण और उसके विकास पर शोध से किया जाता है।"

Software को  अलग-अलग आधार पर अलग-अलग तरीकों से जांचा जाता हैं। उदाहरण के लिए, कोई भी User जब भी किसी Software को Use करता है तो अपनी आवश्यकताओं के अनुरूप प्रदर्शित होते या Perform करते देखना चाहता हैं। ठीक उसी तरह, किसी भी Software के Design, Coding और रखरखाव में शामिल Developers, User को Software वितरित (Deliver ) करने से पहले Software की आंतरिक विशेषताओं और खामियों को देखकर Software का मूल्यांकन करते हैं।




Software के Characteristics:

Software Characteristics को छह प्रमुख घटकों में वर्गीकृत किया जाता है।

एक अच्छे Software के निम्नलिखित गुणधर्म होते है:-

01). Functionality:  किसी भी सॉफ्टवेयर के निष्पादन की डिग्री को अपने इच्छित उद्देश्य से संदर्भित करता है।

02). Reliability:  किसी दी गई स्थितियों के तहत वांछित कार्यक्षमता को प्रदान करने के लिए सॉफ्टवेयर की क्षमता का उल्लेख करता है।

03). Usability: इस बात को संदर्भित करता है कि सॉफ्टवेयर आसानी से कैसे इस्तेमाल किया जा सकता है।

04). Efficiency: सबसे प्रभावी और कुशल तरीके से सिस्टम संसाधनों का उपयोग करने के लिए सॉफ्टवेयर की क्षमता को दर्शाता है।

05). Maintainability: किसी सॉफ्टवेर को आसानी से अपनी कार्यक्षमता बढ़ाने, इसके प्रदर्शन को बेहतर बनाने, या Error को सुधारने के लिए उसके Software System में संशोधन किया जा सकता है।

06). Portability: Software developers आसानी से (या कम से कम) परिवर्तनों के बिना, एक Platform से दूसरे Platform में Software Transfer कर सकते हैं, दुसरे शब्दों में, यह सॉफ्टवेयर की क्षमता को अलग-अलग Hardware और Software Platforms पर आसानी से कार्य करने के लिए संदर्भित करता है, इसमें कोई भी बदलाव किए बिना या आंशिक।

उपरोक्त विशेषताओं के अलावा, Robustness, Platform independecy और Integrity भी महत्वपूर्ण हैं।
Robustness: जिसमें Software Invalid Data के साथ Deliver किए जाने के बावजूद कार्यशीलता रख सकता है, जबकि Integrity: वह है जिसके द्वारा किसी सॉफ्टवेयर या डेटा को अनधिकृत पहुंच से रोका जा सकता है।

February 24, 2016

Bus Topology क्या हैं ..?(What is Bus Topology Network)

Bus Topology में एक ही Cable का प्रयोग होता है और सभी Computer's को एक ही Cable से एक ही क्रम में जोड़ा जाता है।  Bus Topology, LAN का एक arrangement होता है जिसमे की every node एक main cable और link से connected होती है जिसको की बस कहा जाता है इसमें कोई भी Device दुसरे Device से Data प्राप्त करना चाहता है तो उसे देखना पड़ेगा की Network खाली है या नहीं Network खाली होने पर ही Data प्राप्त किया जा सकता है।

bus-topology


Bus Topology में Cable के Start तथा End में एक विशेष प्रकार का Device लगा होता है जिसे टर्मिनेटर (Terminator) कहते है।  इसका कार्य Signals को Control करना होता है।

Bus Topology के लाभ (Advantages of Bus Topology) :


  • Bus Topology को Install करना आसान होता है। 
  • इसमें Star व Tree Topology की तुलना में कम Cable Use होता है। 

Bus Topology के नुकसान (Disadvantages of Bus Topology) :


  • किसी एक Computer की खराबी से Data Transfer रुक जाता है। 
  • बाद में किसी Computer को जोड़ना अपेक्षाकृत कठिन है। 
  • इस Topology में किसी Individual device issues को troubleshoot करना मुश्किल होता है। 
  • ये किसी बड़े Network के लिए Suitable नही होता हैं।  

February 9, 2016

Star Topology क्या हैं ..?(What is Star Topology Network)

Star Network Topology सबसे ज्यादा Use होने वाला Common Computer Network Topology है।  ये एक Local Area Network (LAN) होता है, जिसमे सारी Nodes Directly एक Common Central Computer, Hub or Switch से जुड़ा होता  है | Network की हर Node Indirectly एक दूसरे से जुड़ी होती है।

यह दिखने में Star की तरह होता है इस लिए इसे Star कहा जाता है इस Network में एक Host Computer होता है जिसे सीधे अलग अलग Computer से जोड़ दिया जाता है।  Local Computer आपस में एक-दुसरे से नही जुड़े होते हैं इनको आपस में Host Computer द्वारा जोड़ा जाता है।  Host Computer ही पूरे Network को Control करने काम करता है।

star-topology


Star Topology के लाभ (Advantages of Star Topology):

Star Topology के विभिन्न लाभ इस प्रकार से हैं:-
  • Star Topology में  एक Computer से Host Computer को जोड़ने में Cable Cost कम आता  है।
  • Star Topology में यदि  Local Computer की संख्या बढाई जाती हैं, तो भी  एक Computer से दुसरे Computer पर सूचनाओ के आदान-प्रदान की गति प्रभावित नही होती है, लेकिन इसके कार्य करने की गति कम हो जाती है क्योकि दो Computer के बीच केवल Host Computer ही होता है।
  • Star Topology में यदि कोई Local Computer ख़राब भी हो जाता है तो शेष Network इससे प्रभावित नही होता है।

Star Topology से हानि (Disadvantages of Star Topology:

Star Topology के विभिन्न नुकसान इस प्रकार से हैं:
  • Star Topology में  पूरा System Host Computer पर निर्भर करता  है।
  • Star Topology में  यदि Host Computer ख़राब हो जाय तो पूरा का पूरा Network Damege या Fail हो जाता हैं। 

January 29, 2016

Analog और Digital Communication क्या होता हैं..?

ये हम सभी जानते है कि सूचना का आदान प्रदान एक मुलभुत किय्रा है Communication से मतलब किसी Information और messege को बोधगम्य(Conceivable) रूप में एक स्थान से दुसरे स्थान तक Transfer(स्थानांतरण) करना।

Information का आदान प्रदान Graphical Symbols जैसे हांथों ,आँखों और इशारो से किया जा सकता है या तो ध्वनि संकेतों जैसे ढोल बजाकर किया जा सकता है। आधुनिक युग में अधिक दुरी पर Information को send करने के लिए Electrical Signal का उपयोग होता है। इस प्रक्रिया में पहेले सूचना को electrical संकेतो में Convert किया जाता है फिर उसे भेजा जाता है।

 Electronic Circuit दो प्रकार के होते है :
  • Analog Circuit 
  • Digital Circuit
Analog Communication में प्रयुक्त Circuit Analog Circuit कहलाते है और इनमे Analog Signal Use होते है, जो Continuous होते है।,

Digital Communication में प्रयुक्त Circuit Digital Circuit कहलाते है और इनमे Digital Signal Use होते है, जो Discrete( विविक्त ) होते हैं।

analog-and-digital


Analog Signal:  ये वे होते है जिनमे वोल्टेज  अथवा विधुत धारा का मान समय के साथ निरंतर बदलता जाता है।  Analog Signal के लिए Decimal Number System प्रयुक्त होता है।


Digital Signal: ये वे होते है जिनमे वोल्टेज अथवा विधुत धारा के केवल दो स्तर होते है। Digital Signal के लिए Binary Number System प्रयुक्त होता है जिसमें signal के दो स्तर 0 और 1 होते है Bits कहलाते है।वास्तव में संसार की अधिकाँश राशियाँ Analog है किन्तु फिर भी अधिकाँश इन Analog राशियों को Digital form में Convert करके Digital Signal's की Processing की जाती है

January 24, 2016

Ring Topology क्या हैं ..?(What is Ring Topology Network)

Ring Topology Network में कोई होस्ट, मुख्य या कंट्रोलिंग कम्प्यूटर नही होता।  इसमें सभी कम्प्यूटर एक गोलाकार आकृति में लगे होते है प्रत्येक कम्प्यूटर अपने अधीनस्थ (Subordinate) कम्प्यूटर से जुड़े होते है, किन्तु इसमें कोई भी कम्प्यूटर स्वामी नही होता है। इसे सर्कुलर (Circular) भी कहा जाता है

 ring-topology


रिंग नेटवर्क (Ring Topology Network) में साधारण गति से डाटा का आदान-प्रदान होता है तथा एक कम्प्यूटर से किसी दुसरे कम्प्यूटर को डाटा (Data) प्राप्त करने पर उसके मध्य के अन्य कंप्यूटरो को यह निर्धारित करना होता है कि उक्त डाटा उनके लिए है या नही।  यदि यह डाटा उसके लिए नही है तो उस डाटा को अन्य कम्प्यूटर में आगे (Pass) कर दिया जाता है।


Ring Topology के लाभ (Advantages) –


यह नेटवर्क अधिक कुशलता से कार्य करता है, क्योकि इसमें कोई होस्ट (Host) यह कंट्रोलिंग कम्प्यूटर (Controlling Computer) नही होता। यह स्टार से अधिक विश्वसनीय है, क्योकि यह किसी एक कम्प्यूटर पर निर्भर नही होता है। इस नेटवर्क की यदि एक लाइन या कम्प्यूटर कार्य करना बंद कर दे तो दुसरी दिशा की लाइन के द्वारा काम किया जा सकता है।



Ring Topology के हानि (Disadvantages) –


इसकी गति नेटवर्क में लगे कम्प्यूटरो पर निर्भर करती है। यदि कम्प्यूटर कम है तो गति अधिक होती है और यदि कंप्यूटरो की संख्या अधिक है तो गति कम होती है। यह स्टार नेटवर्क की तुलना में कम प्रचलित है, क्योकि इस नेटवर्क पर कार्य करने के लिए अत्यंत जटिल साफ्टवेयर की आवश्यकता होती है।

अगर आपको ये Post अच्छा लगा या कोई सुधार की आवश्यकता हो तो जरुर बतायें और अपने दोस्तों के साथ जरूर Share करें। अपने सुझाव निचे Comment मे जरूर लिखें।

- -----------------------------------------------......THE END......--------------------------------------------------

November 28, 2015

Tree Topology क्या हैं ..?(What is Tree Topology Network)

Tree Topology में Star तथा Bus दोनों Topology के लक्षण विधमान होते है। इसमें Star Topology की तरह एक Host Computer होता है, और Bus Topology की तरह सारे Computer एक ही Cable से जुड़े रहते हैं। Tree Topology एक पेड़ के समान दिखाई देता हैं।

tree-topology

Tree Topology के लाभ (Advantages of Tree Topology):


  • प्रत्येक Segment के लिए Point Cable बिछाया जाता है। 
  • कई Hardware तथा Software विक्रेताओ के द्वारा Support किया जाता है। 

Tree Topology से हानि (Disadvantages of Tree Topology):


  • प्रत्येक Segment का कुल लम्बाई प्रयोग में लाये गए तार के द्वारा सीमित होती है। 
  • यदि Backbone Line टूट जाती है तो पूरा Segment रुक जाता है। 
  • अन्य Topology की अपेक्षा इसमें तार बिछाना तथा इसे Configure करना कठिन होता है। 

October 25, 2015

Mesh Topology क्या हैं..?(What is Mesh Topology Network)

Mesh Topology को Mesh Network भी कहा जाता है । Mesh एक Network Topology है जिसमे Devices, Networks Nodes के मध्य कई अतिरिक्त Interconnection होते है, अर्थात Mesh Topology में प्रत्येक Node, Network के अन्य सभी Node से जुड़े होते है । यह बहुत ज्यादा खर्चीला होता है ।

Mesh Topology High traffic स्थिति में Routes को ध्यान में रखकर उपयोग किया जाता है इसी कारण ये WAN (Wide Area Network) में बहुत अधिक Popular है। इस Topology किसी भी Source से कई मार्गों से सन्देश भेजा जा सकता है। इसे हम ऐसे भी कह सकते है कि "Mesh Topology में सारे Computer कही न कही एक दूसरे से जुड़े रहते हैं और एक दूसरे से जुड़े होने के कारण ये अपनी सूचनाओ का आदान प्रदान आसानी से कर सकते हैं "

mesh-topology


इसमें कोई Host Computer नहीं होता हैं।

Mesh Topology के लाभ(Advantage of Mesh Topology):


Mesh Topology का मुख्य लाभ यह है की, इसमें Fualt tolrence होता है, यानि इसमें अगर कोई भी केबल अगर टूट जाती है, तो इसकी यातायात अलग मार्ग से कराई जा सकती है ।

Mesh Topology के नुकसान(Disadvantage of Mesh Topology):


Mesh Topology कई रास्ते का उपयोग करता है और इसके लिए अतिरिक्‍त Cabele की जरुरत होती है।
इसे manege करना बहुत मुश्किल है।