Data Link Layer of OSI Model (Data Link Layer Kya Hai..?)

Data link layer OSI Model की Second layer है। ये layer Network के अंदर data को transport करने के लिए responsible होती है। ये Layer data bits को Encode, decode और logically organize करता है तथा यह layer ये भी Ensure करता है कि Data Error Free और Duplicate भी ना हो।

Data Link Layer of OSI Model:

Data link layer दो Node के बीच logical link Establish और Terminate करने का काम भी करता हैं,
Data link layer Network Layer के Data को frames में पैक करती है।

Data link layer में  Data frames Acknowledgement Frames में convert हो जाता है ताकि data को किसी Physical Medium के Through भेजा जा सके। ये Process Framing कहलाती है। Frames में source और Destination Devices के Hardware Address Contain होता है।

Data link layer functions
Data link layer of osi model in hindi

किसी Network में host को Uniquely Identify करने के लिए Hardware Address Use किया जाता है। सबसे common hardware address Ethernet का MAC address होता है।

Data link layer की Two sub-layers होती है।

01). Logical link control:- LLC sub-layer physical layer और बाकी ऊपर की layers के बीच में एक link establish करती है।

02). Media access control:- MAC sub-layer physical medium के access को control करती है।

Data link layer को Frame Unit भी कहा जाता है। Data link layer के functions है:

01). Frame Traffic को Control करना

02). Physical Addressing

03). Error Detection & Correction

04). Encapsulated Data की पहचान करना और

05). Arbitration (मध्यस्ता) करना


अगर आपको ये Post अच्छा लगा तो दोस्तों के साथ जरूर Share करें। अपने सुझाव निचे Comment मे जरूर लिखें।

>

2 thoughts on “Data Link Layer of OSI Model (Data Link Layer Kya Hai..?)”

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: